Friday, 22 November 2019, 9:08 AM

धर्म एवं ज्योतिष

क्यों मनाया जाता है करवा चौथ?

Updated on 12 October, 2019, 6:15
करवा चौथ विशेष तौर पर नारियों का त्योहार है। हिन्दू धर्म में नारी शक्ति को शक्ति का रूप माना जाता है। कहते हैं कि नारी को यह वरदान है कि वो जिस भी कार्य या मनोकामना के लिए तप या व्रत करेगी तो उसका फल उसे अवश्य मिलेगा। खासकर अपने... आगे पढ़े

अनंत शक्तियों का स्वामी हैं हमारा मन

Updated on 12 October, 2019, 6:00
हमें यह बात हमेशा ध्यान में रखना चाहिए कि मन का परमात्मा के साथ घनिष्ठ संबंध है। मन और ब्रह्म दो भिन्न वस्तुएं नहीं हैं। ब्रह्म ही मन का आकार धारण करता है। अत: मन अनंत और अपार शक्तियों का स्वामी है। मन स्वयं पुरुष है एवं जगत का रचयिता... आगे पढ़े

करवा चौथ व्रत 2019 : पूजन विधि मिलेगी आपको यहां, जानिए कैसे करें व्रत

Updated on 11 October, 2019, 6:45
इस साल करवा चौथ का व्रत 17 अक्टूबर 2019, गुरुवार को मनाया जा रहा है। सुहागिन या पतिव्रता स्त्रियों के लिए करवा चौथ बहुत ही महत्वपूर्ण व्रत है। हिन्दू सनातन पद्धति में करवा चौथ सुहागिनों का महत्वपूर्ण त्योहार माना गया है। इस पर्व पर महिलाएं हाथों में मेहंदी रचाकर, चूड़ी पहन... आगे पढ़े

शरद पूर्णिमा के दिन करें ये खास 5 ज्योतिषीय उपाय, खुल जाएंगे आपके भाग्य

Updated on 11 October, 2019, 6:30
शरद पूर्णिमा के दिन ये 5 खास ज्योतिषीय उपाय करने से मिलेगा आपको सुकून। खासकर यदि आपकी कुंडली में राहू के संयोग से किसी भी भाव में चंद्रग्रहण है तो वह हट जाएगा और बंद भाग्य खुल जाएगा। 1.इस दिन किसी भी प्रकार की तामसिक वस्तुओं का सेवन नहीं करना चाहिए।... आगे पढ़े

Karwa Chauth Pujan सामग्री की List में अवश्‍य होना चाहिए ये 36 चीजें

Updated on 11 October, 2019, 6:15
पति के प्रति प्रेम की आत्मिक अभिव्यक्ति के लिए किया जाने वाला करवा चौथ का व्रत पिया की दीर्घायु के लिए किया जाता है। अन्न जल का त्याग कर व्रत रखकर, रात्रि समय में चांद को अर्ध्य देकर यह व्रत पूर्ण होता है। इस व्रत का सबसे अहम और दिलचस्प... आगे पढ़े

सुखी रहने के लिए लें धर्म की शरण! 

Updated on 11 October, 2019, 6:00
दुनिया का हर व्यक्ति केवल सुख ही चाहता है। दुख से सब दूर भागते हैं। यदि हमें सुखी रहना है तो सबसे पहले धर्म से जुड़ना होगा। किसी के मन को दुखाना भी पाप है। भागदौड़ भरी जिंदगी में आज हर व्यक्ति विवेक नहीं रख पाता है। इसलिए पाप बंध... आगे पढ़े

इन लोगों से नहीं लें सलाह  

Updated on 10 October, 2019, 7:00
महात्मा विदुर महाभारत काल के महान नीतिज्ञ माने जाते हैं इन्हें धर्मराज का अवतार भी माना जाता है। इन्होंने हमेशा नीतियों और न्याय का पालन किया। इन्होंने अपनी नीतियों में बताया है कि मनुष्य को कोई भी काम शांति और समझदार लोगों की सलाह से करना चाहिए। वहीं भूलकर भी... आगे पढ़े

बनासकांठा का नाडेश्वरी माता का मंदिर है आस्था का केन्द्र 

Updated on 10 October, 2019, 6:45
गुजरात के बनासकांठा के बॉर्डर पर नाडेश्वरी माता का मंदिर बना है। यह मंदिर आम लोगों के साथ-साथ सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के जवानों के लिए भी आस्था और श्रद्धा का बहुत बड़ा धर्मस्थल बना हुआ है। बनासकांठा बॉर्डर पर जब भी किसी जवान की ड्यूटी लगती है तो वह ड्यूटी... आगे पढ़े

भगवान की मूर्तियां उपहार में देना ठीक नहीं  

Updated on 10 October, 2019, 6:30
वास्तु शास्त्र कहता है कि भगवान की मूर्तियां किसी को तोहफे में नहीं देनी चाहिए और अगर इन्हें खरीदा जा रहा है तो सिर्फ अपने उपयोग के लिए ही खरीदें। वास्तु विज्ञान के अनुसार भगवान की मूर्तियां या तस्वीर यदि घर में हों तो उन्हें स्थापित करने से लेकर उनकी... आगे पढ़े

पक्षियों को दाना खिलाने से बनी रहती है देवी लक्ष्मी की कृपा  

Updated on 10 October, 2019, 6:15
हम अपने घरों में सुख समृद्धि लाने के लिए बहुत से उपाय करते रहते हैं। वास्तु शास्त्र के अनुसार पक्षियों को दाना खिलाना शुभ होता है, लेकिन इसमें मामूली सी गलती इसके विपरीत नुकसान पहुंचा सकती है। कई बार अंजाने में ही हम सही हम कुछ न कुछ गलती भी... आगे पढ़े

शरद पूर्णिमा का है विशेष महत्व  

Updated on 10 October, 2019, 6:00
हिंदू शास्त्र के अनुसार सभी पूर्णिमाओं में आश्विन मास की पूर्णिमा का विशेष महत्व होता है। इस पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा कहते हैं। इस बार 13 अक्टूबर को शरद पूर्णिमा है। ऐसी मान्यता है कि इस रात को चंद्रमा अपनी पूरी सोलह कलाओं के प्रदर्शन करते हुए दिखाई देता है।... आगे पढ़े

पापांकुशा एकादशी का व्रत और भगवान विष्णु की पूजा से खत्म हो जाते हैं हर तरह के पाप

Updated on 9 October, 2019, 6:15
 हिंदू पंचांग के अनुसार, आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को पापांकुशा एकादशी कहते हैं। इस एकादशी पर मनोवांछित फल की प्राप्ति के लिए भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। इस बार यह एकादशी 9 अक्टूबर, बुधवार को है। धर्म ग्रंथों के अनुसार, जो मनुष्य कठिन तपस्याओं के... आगे पढ़े

पापांकुशा एकादशी 2019: इस दिन हुआ था राम-भरत मिलाप, जानिए महत्व और पूजनविधि

Updated on 9 October, 2019, 6:00
हिंदू धर्म में माह की एकादशी तिथि को बहुत ही पवित्र माना गया है। आश्विन माह में नवरात्र और दशहरा पर्व के बाद एकादशी तिथि पड़ती है। आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को पापांकुशा एकादशी कहा जाता है। इस बार यह एकादशी 9 अक्टूबर बुधवार को है। पापांकुशा... आगे पढ़े

रावण ने जानबूझकर राम के हाथों मृत्यु के लिये सीता का अपहरण किया था 

Updated on 8 October, 2019, 6:30
दशहरा के समय जब राम की विजय का घोष होता है तो रावण की पराजय और मृत्यु की चर्चा भी होती है। वास्तव में दशहरा के मौके पर राम तथा रावण दोनों का स्मरण होता है।   रामानुज लक्ष्मण द्वारा शूर्पणखा का अंग भंग किये जाने का कारण सब को मालूम... आगे पढ़े

हर्ष और उल्लास का प्रतीक है दशहरा

Updated on 8 October, 2019, 6:15
दशहरा अथवा विजयदशमी भगवान राम की विजय के रूप में मनाया जाए अथवा दुर्गा पूजा के रूप में, दोनों ही रूपों में यह शक्ति-पूजा का पर्व है, शस्त्र पूजन की तिथि है। हर्ष और उल्लास तथा विजय का पर्व है। भारतीय संस्कृति वीरता की पूजक है, शौर्य की उपासक है।... आगे पढ़े

क्या है जीवन का सार 

Updated on 8 October, 2019, 6:00
दुख एक मानसिक कल्पना है। कोई पदार्थ, व्यक्ति या प्रिया दुख नहीं है। संसार के सब नाम-रूप गधा-हाथी, स्त्री-पुरुष, पशु-पक्षी, वृक्ष-लता आदि खिलौने हैं। हम अपने को खिलौना मानेंगे तो गधा या हाथी होने का सुख-दुख होगा, अपने को स्वर्ण, मूल्यधातु देखेंगे तो यह मनुष्य देह नहीं रहेंगे। हम विराट्... आगे पढ़े

नवरात्रि पर्व का नवां दिवस- सिद्धिदात्री  

Updated on 7 October, 2019, 6:30
सिद्धगन्धर्वयक्षाद्यैरसुरैरमरैरपि।  सेव्यमाना सदा भूयात सिद्धिदा सिद्धिदायिनी।।  माँ दुर्गा जी की नवीं शक्ति का नाम सिद्धिदात्री है। ये सभी प्रकार की सिद्धियों को देने वाली हैं। मार्पण्डेयपुराण के अनुसार अणिमा, महिमा, गरिमा, लघिमा, प्राप्ति, प्राकाम्य, ईशित्व और वशित्व-ये आठ सिद्धियां होती हैं। ब्रह्मवैवर्त्तपुराण के श्रीकृष्ण जन्म खण्ड में यह संख्या अट्ठारह बतायी गयी... आगे पढ़े

कौन है नीतिनिष्ठ व्यक्ति? 

Updated on 7 October, 2019, 6:15
सदाचार एक व्यापक और सार्वभौम तत्व है। देशकाल की सीमाएं इसे न तो विभक्त कर सकती हैं और न इसकी मौलिकता को नकार सकती हैं।  जिस प्रकार सूर्य का प्रकाश सबके लिए होता है, उसी प्रकार सदाचार के मूलभूत तत्व मानव मात्र के लिए उपयोगी होते हैं। कुछ व्यक्ति अपने... आगे पढ़े

दुर्गा के नौ स्वरुपों की पूजा होती है नवरात्रि में 

Updated on 7 October, 2019, 6:00
भारतीय जन-जीवन में धर्म की महत्ता अपरम्पार है। यह भारत की गंगा-जमुना तहजीब का ही नतीजा है कि सब धर्मों को मानने वाले लोग अपने-अपने धर्म को मानते हुए इस देश में भाईचारे की भावना के साथ सदियों से एक साथ रहते चले आ रहे हैं। यही कारण है की... आगे पढ़े

नवरातों का संदेश

Updated on 6 October, 2019, 6:30
नवरातें कहती हैं मुझसे, नारी का सम्मान हो बेटे से कम नहीं है बेटी, बेटी पर अभिमान हो । नारी किंचित नहीं है दुर्बल, सचमुच वह बलवान है नारी से ही रौनक घर की, नारी से ही आन है नारी को तो पूजा जाये, पूरा हर अरमान हो बेटे से कम नहीं है बेटी, बेटी पर अभिमान हो । नारी से ही... आगे पढ़े

क्या है शुद्ध अहिंसा! 

Updated on 6 October, 2019, 6:15
गांधी जी ने अपने जीवन में अहिंसा के विविध प्रयोग किए। वे एक वैज्ञानिक थे। उनका जीवन प्रयोगशाला था। उनका प्रारंभिक और अंतिम साहित्य देखने से यह तथ्य भलीभांति स्पष्ट हो जाता है। बड़े जीव की सुरक्षा के लिए छोटे जीव को मारने में वे पाप बताते थे। खती को... आगे पढ़े

नवरात्रि पर्व का आठवां दिवस- महागौरी 

Updated on 6 October, 2019, 6:00
श्वेते वृषे समारूढ़ा श्वेताम्बारधरा शुचि:।  महागौरी शुभं दद्यान्हादेवप्रमोददा।।  माँ दुर्गा जी की आठवीं शक्ति का नाम महागौरी है। इनका वर्णपूर्णत: गौर है। इस गौरता की उपमा शखं, चन्द्र और कुन्दके फूल से दी गयी है। इनकी आयु आठ वर्षकी मानी गयी है-‘अष्टवर्षा भवेद् गौरी’ इनके समस्त वस्त्र एवं आभूषण आदि भी श्वेत... आगे पढ़े

अलौकिक है सकराय का सिद्ध शक्ति पीठ

Updated on 5 October, 2019, 6:30
राजस्थान शक्ति व भक्ति की साधना स्थली रहा हैं। यही कारण है कि मातृ शक्ति के पुजारी यहां के शैलखण्डो पर असुरनासिनी मां दुर्गा व भगवती के मन्दिर शंख नगाड़ो से गुंजायमान करते हैं। राजस्थान में देवियों के नामों का आधार प्राय: अवतार हैं, लेकिन ख्याति प्राप्त सिद्ध शक्ति पीठ... आगे पढ़े

नवरात्रि पर्व का सातवां दिवस-कालरात्रि

Updated on 5 October, 2019, 6:15
एकवेणी जपाकर्णपूरा नग्ना खरास्थिता।  लम्बोष्ठ कर्णिकाकर्णी तैलाभ्याक्तशरीरिणी।।  वामपदाल्लसल्लोहलताकण्टकभूषणा।  वर्धनमूर्धध्वजा कृष्ण कालिरात्रिर्भयकंरी।।  माँ दुर्गा की सातवीं शक्ति कालरात्रि के नाम से जानी जाती हैं। इनके शरीर का रंग घने अन्धकार की तरह एकदम काला हैं। सिर के बाल बिखरे हुए हैं। गले में विद्युत की तरह चमकने वाली माला हैं। इनके तीन नेत्र हैं। ये... आगे पढ़े

गुरु तत्व का सम्मान 

Updated on 5 October, 2019, 6:00
जब भी तुमने बदले में किसी आशा के बिना किसी के किए कुछ भी किया हो, किसी को कोई सलाह दी हो, लोगों का मार्गदशर्न किया हो, उन्हें प्रेम दिया हो और उनकी देख-भाल की हो, तब तुमने गुरु की भूमिका निभाई है। गुरु  तत्व सम्मान करने की और विश्वास... आगे पढ़े

नवरात्रि पर्व का छठवां दिवस- कात्यायनी

Updated on 4 October, 2019, 6:30
चन्द्रहासोज्ज्वलकरा शार्दूलवरवाहना।  कात्यायनी शुभं दद्याद्देवी दानवघातिनी।।  माँ दुर्गा के छठवें स्वरूप का नाम कात्यायनी है। इनका कात्यायनी नाम पड़ने की कथा इस प्रकार है- कत नामक एक प्रसिद्ध महर्षि थे। उनके पुत्र ऋषि कात्य हुए। इन्हीं कात्य के गोत्र में विश्व प्रसिद्ध महर्षि कात्यायन उत्पन्न हुए थे। इन्होंने भगवती पराम्बा की उपासना... आगे पढ़े

हे ! माँ दुर्गा

Updated on 4 October, 2019, 6:15
सत्य का आधार माँ तू , ज्ञान का है सार माँ तू। तू तो सबको तारिती है, है सकल संसार माँ तू। हर बुराई पर तू भारी, कर्म का अभिसार माँ तू। हम भले बेटे हों मूरख, पर सदा है प्यार माँ तू। हैवानियत जब भी है बढ़ती, दानवों पर मार माँ तू। राह में फूलों की रचना, नित हटाती खार... आगे पढ़े

जीवन में विचार की आवश्यकता

Updated on 4 October, 2019, 6:00
कुटिल एवं असत्य विचार से मुक्ति का सरल उपाय सुविचार की भावना दृढ़ करना है। शांतिदायक सुविचार की गंगा प्रवाहित करने पर ही हम मानसिक दुर्बलता से मुक्त हो सकते हैं। प्रत्येक विचार अंत:करण में एक मानसिक मार्ग का निर्माण करता है। हमारी समस्त आदतें ऐसे ही मानसिक मार्ग हैं,... आगे पढ़े

आज नवरात्र का 5वां दिन, स्‍कंदमाता पूजा विधि और व्रत का लाभ जानें

Updated on 3 October, 2019, 12:04
3 अक्टूबर, आज मां दुर्गा की उपासना के पर्व नवरात्र का पांचवां दिन है और इस दिन स्‍कंदमाता की पूजा, आराधना का विधान है। स्‍कंदमाता ममता की मूर्ति प्रेम और वात्‍सल्‍य की प्रतीक साक्षात दुर्गा का स्‍वरूप हैं। मां के 5वें स्‍वरूप को यह नाम भगवान कार्तिकेय से मिला है।... आगे पढ़े

विजेता बनना है तो धारण करें वैजयंती माला 

Updated on 3 October, 2019, 7:00
धर्म में सफल होने के लिए पूजा पाठ और हवन के साथ ही कई अन्य उपाय भी है। धर्म शास्त्रों के अनुसार  वैजयंती माला- एक ऐसी माला जो सभी कार्यों में विजय दिला सकती है। इसका प्रयोग भगवान श्री कृष्ण माता दुर्गा, काली और दूसरे कई देवता करते थे। रत्न के... आगे पढ़े