Monday, 22 July 2019, 2:58 AM

धर्म एवं ज्योतिष

प्रेम में सीखें जीवन जीना

Updated on 13 July, 2019, 6:00
जीवन में प्रेम का साक्षात्कार महत्वाकांक्षा जीवन को ज्वरग्रस्त करने का मार्ग है। फिर क्या और कोई रास्ता नहीं हो सकता? रास्ता है। वह रास्ता है प्रेम का, महत्वाकांक्षा का नहीं। संगीत से प्रेम सिखाएं, दूसरे संगीत सीखने वाले से प्रतिस्पर्धा नहीं। गणित से प्रेम सिखाएं, दूसरे गणित के विद्यार्थी... आगे पढ़े

भक्तों का दावा-शिर्डी के मंदिर में दीवार पर उभरी साई बाबा की आकृति, लोगों ने किए दर्शन

Updated on 12 July, 2019, 18:30
शिर्डी : महाराष्ट्र के शिर्डी साई बाबा मंदिर के द्वारकामाई मंदिर में साई बाबा की प्रतिमा (आकृति) दिखाई दी है. ये घटना गुरूवार रात की है, जब बाबा की शयन आरती के बाद बाबा की प्रतिमा भक्तों की दिखाई दी. ये आरती रात को 11.30 मिनट पर होती है. इस... आगे पढ़े

30 तिथियों में सबसे ज्यादा पवित्र हैं एकादशी और प्रदोष, चमत्कार जानेंगे तो अवश्य करेंगे व्रत

Updated on 12 July, 2019, 6:30
प्रत्येक तिथि और वार का हमारे मन और मस्तिष्क पर गहरा असर पड़ता है। इस असर को जानकर ही कोई कार्य किया जाए तो चमत्कारिक लाभ प्राप्त किया जा सकता है। तिथि और वार का निर्धारण सैकड़ों वर्षों की खोज और अनुभव के आधार पर किया गया है। इस तिथि... आगे पढ़े

विष्णु सहस्रनाम पाठ : भगवान श्री हरि के 1000 नामों से मनाएं देवशयनी एकादशी

Updated on 12 July, 2019, 6:15
12 जुलाई 2019 का दिन श्रीहरि विष्णुजी की उपासना का है। इस दिन देवशयनी एकादशी है। पूजा करते समय सच्चे मन से भगवान विष्णु का ध्यान, पूजन, कथा और स्तोत्र, आरती, चालीसा आदि का पाठ करने का विशेष महत्व है। पौराणिक शास्त्रों में भगवान विष्णु के 1000 नामों की महिमा अवर्णनीय... आगे पढ़े

मूर्ति रुप में श्रीहरि

Updated on 12 July, 2019, 6:00
पुंडलिक भगवान विष्णु का अनन्य भक्त था और श्रीहरि के दर्शनों की ईच्छा रखता था। इसके लिए वह हर तरह के जतन पूजा-पाठ, जप-तप और यज्ञ- अनुष्ठान करता रहता था। पुंडलिक की भक्ति से प्रसन्न होकर एक बार भगवान विष्णु उसके घर पर उसको दर्शन देने के लिए पहुंचे। उस... आगे पढ़े

सोना धारण करने से पहले रखें इन बातों का ध्यान

Updated on 11 July, 2019, 7:15
सोना एक बहुमूल्य धातु है और इसका इस्तेमाल अभूषणों के रुप में किया जाता है पर  केवल शौक के लिए सोना नहीं पहनना चाहिए। जरूरत और लाभ को ध्यान में रखकर ही सोना धारण करना चाहिए। ज्योतिष के अनुसार अनुसार सोना बृहस्पति (गुरु) ग्रह को प्रभावित करता है। सोना पहनने से... आगे पढ़े

क्रॉस के निशान और उनके प्रभाव 

Updated on 11 July, 2019, 7:00
हाथ की रेखाओं की तरह ही उसमें पाये जाने वाले क्रॉस का भी हमारे जीवन में बेहद प्रभाव पड़ता है। हमारे हाथ में क्रॉस का निशान कई बार देखा जाता है, लेकिन हमें मालूम नहीं होता कि इसका मतलब क्‍या है। क्रॉस का निशान हमारे हाथ में किसी भी पर्वत... आगे पढ़े

खराब ग्रहों के कारण नहीं मिलता दांपत्य सुख

Updated on 11 July, 2019, 6:45
सनातन धर्म में विवाह एक अति महत्वपूर्ण संस्कार है। वही सुखद और प्रेमपूर्ण दांपत्य का आधार है लेकिन प्रारब्ध कर्मानुसार व्यक्ति की जन्मपत्रिका में कुछ ऐसी ग्रह स्थितियां निर्मित हो जाती हैं जिसके फलस्वरूप उसे दांपत्य सुख नहीं मिलता है। कलहपूर्ण दांपत्य अंत्यत कष्टप्रद और नारकीय जीवन के समान होता... आगे पढ़े

इस पर्वत पर हनुमान जी ने किया था विश्राम

Updated on 11 July, 2019, 6:30
हिमाचल प्रदेश के शिमला में हनुमान जी का जाखू मंदिर देश भर के मुख्य धार्मिक स्थलों में से एक है। रामायणकालीन यह मनोरम मंदिर शिमला की हरी-भरी पहाड़ियों के बीच स्थित है। शिवालिक की श्रृंखलाओं में जाखू पहाड़ी स्थल शिमला में सबसे ऊंचा है। माना जाता है कि हनुमान जब... आगे पढ़े

नदियों के संगम और इनकी महिमा 

Updated on 11 July, 2019, 6:15
नदियों का संगम सनातन धर्म में बहुत ही पवित्र माना जाता है। जिन जगहों पर इनका संगम होता है उन्हें प्रयाग कहा जाता है और इन्हें प्रमुख तीर्थ मानकर पूजा जाता है। अलकनंदा और भागीरथी नदियों के संगम पर देवप्रयाग स्थित है। इसी संगम स्थल के बाद इस नदी को... आगे पढ़े

आपकी सोच पर निर्भर है कर्म 

Updated on 11 July, 2019, 0:00
दो मित्र अक्सर एक वेश्या के पास जाया करते थे। एक शाम जब वे वहां जा रहे थे, रास्ते में किसी संत का आध्यात्मिक प्रवचन चल रहा था। एक मित्र ने कहा कि वह प्रवचन सुनना पसंद करेगा। उसने उस रोज वेश्या के यहां नहीं जाने का फैसला किया। दूसरा... आगे पढ़े

10 जुलाई को भड़ली नवमी : विवाह बंधन में बंधने का है अबूझ मुहूर्त

Updated on 10 July, 2019, 6:30
हर साल आषाढ़ शुक्ल नवमी को भड़ली नवमी पर्व मनाया जाता है। नवमी तिथि होने से इस दिन गुप्त नवरात्रि का समापन भी होता है। इस वर्ष यह पर्व 10 जुलाई 2019, बुधवार को मनाया जा रहा है। यह त्योहार भगवान श्रीहरि विष्णु को समर्पित है। पौराणिक शास्त्रों के अनुसार भड़ली... आगे पढ़े

हिन्दू धर्म की वे देवियां जो जुड़ी हैं वनस्पति जगत से

Updated on 10 July, 2019, 6:15
हिन्दू धर्म में प्रकृति का बहुत महत्व बताया गया है। हिन्दू धर्म के सभी त्योहार प्रकृति से ही जुड़े हुए हैं। प्रकृति से हमें फल, फूल, सब्जी, कंद-मूल, औषधियां, जड़ी-बूटी, मसाले, अनाज, जल आदि सभी प्राप्त होते ही हैं। इसलिए भी इसका संवरक्षण करना जरूरी है। आओ जानते हैं हिन्दू... आगे पढ़े

गरीब होने का अहसास 

Updated on 10 July, 2019, 6:00
पुराने जमाने की बात है तीनों लोकों के धन देवता कुबेर ने एक दिन सोचा कि मेरे पास इतनी संपत्ति है क्यों न उसका प्रदर्शन किया जाए। यह विचार कर उन्होंने एक भव्य भोज का आयोजन किया। तीनों लोकों के समस्त देवताओं को उन्होंने आमंत्रित किया। भगवान शिव उनके इष्ट... आगे पढ़े

देवशयनी (हरिशयनी) एकादशी विशेष : राजा बलि की कथा, महत्व और शुभ मुहूर्त यहां मिलेंगे आपको

Updated on 9 July, 2019, 6:30
strucहरिशयनी (देवशयनी) एकादशी : मुहूर्त, महत्व और राजा बली की कथा आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की 11वीं तिथि, 12 जुलाई को देवशयनी या हरिशयनी एकादशी मनाई जाएगी। इस दिन से सभी शुभ कारज बंद हो जाएंगे। मतांतर से पूजन, अनुष्ठान, मरम्मत, घर में गृह प्रवेश, वाहन क्रय जैसे आवश्यक कार्य... आगे पढ़े

भगवान शिव का जन्म कैसे हुआ : यह है श्रावण मास की खास जानकारी सिर्फ आपके लिए

Updated on 9 July, 2019, 6:15
भगवान शिव का जन्म हुआ या नहीं, हुआ तो कैसे हुआ और क्या वे स्वयंभू हैं? भगवान शिव का जन्म कैसे हुआ, नहीं हुआ तो क्या वे स्वयंभू हैं? भगवान शिव का जन्म कैसे और कहां हुआ? वेद कहते हैं कि जो जन्मा है, वह मरेगा अर्थात जो बना है, वह फना है।... आगे पढ़े

अशांति का कारण होती हैं कामनाएं 

Updated on 9 July, 2019, 6:00
वर्तमान समय में अधिकांश मनुष्य विचारों के नाकारात्मक प्रभाव के वशिभूत है। यही वजह है कि संपूर्ण विश्व कहीं न कहीं युद्ध के कगार पर खड़ा नजर आ रहा है। भारतीय ही नहीं दुनिया के  नेताओं और धार्मिक शक्तियों के विचारों में सामंजस्यता नजर नहीं आ रही है।  वर्तमान समाज... आगे पढ़े

हर सोमवार, हर कलाकार को पढ़ना चाहिए इसे...

Updated on 8 July, 2019, 6:30
भगवान शिव का नटराज स्वरूप अधिकांश संगीतकार, कलाकार, नृतक और गायक पूजते हैं। शिव अपने नटराज स्वरूप में इतने लीन होते हैं कि उनसे अपनी कला के लिए आशीष सहजता से मांगा जा सकता है। वे उस समय अपनी समस्त कलाओं की दिव्य अभिव्यक्ति कर रहे होते हैं। अगर आप... आगे पढ़े

भोलेनाथ शिव के 10 प्रतीक और उनके राज, जरूर जानना चाहेंगे आप

Updated on 8 July, 2019, 6:15
शिव जो धारण करते हैं, उनके बड़े व्यापक अर्थ हैं, शिव का स्वरूप जितना विचित्र है, उतना ही आकर्षक भी। किंतु क्या आप जानते हैं उनकी धारण की हुई 10 सामग्रियों का राज, आइए जानते हैं आज... 1 . जटाएं : शिव की जटाएं अंतरिक्ष का प्रतीक हैं। 2 . चंद्र :... आगे पढ़े

मौत का जश्न 

Updated on 8 July, 2019, 6:00
एक राजा थे जो अपने मंत्री के ज्ञान व उनकी चेतना से कुपित थे। एक बार मंत्री के जन्मदिन समारोह के दौरान जब सब खुशिंयां मना रहे थे तभी सैनिक राजा का संदेश लेकर पहुंचे और बोले कि आज शाम को मंत्री को फांसी दी जाएगी। यह सुनकर समारोह में... आगे पढ़े

पितृदोष निवारण हेतु लगाएं घर में यह पौधा

Updated on 7 July, 2019, 6:30
पेड़-पौधे और जड़ी-बूटियां बहुत चमत्कारिक होती है। यह जहां स्वास्थ्य के लिए हितकारी है वहीं इनके कई चमत्कारिक प्रयोग भी प्राचीनकाल से किए जाते रहे हैं। कहते हैं कि पौधे लगाने से वास्तु दोष ही नहीं और भी कई तरह के दोषों का निवारण होता है। इसी तरह का एक... आगे पढ़े

सावन सोमवार में करने जा रहे हैं व्रत तो जान लें ये 12 रहस्य

Updated on 7 July, 2019, 6:15
1.श्रावण शब्द श्रवण से बना है जिसका अर्थ है सुनना। अर्थात सुनकर धर्म को समझना। इस माह में सत्संग का महत्व है। इस माह में पतझड़ से मुरझाई हुई प्रकृति पुनर्जन्म लेती है। 2.श्रावण माह में भगवान शिव, मां पार्वती और श्रीकृष्ण की पूजा का बहुत महत्व होता है। व्रत रखकर... आगे पढ़े

अन्न के कण और आनंद के क्षण

Updated on 7 July, 2019, 6:00
महाकवि कालिदास रास्ते में थे। प्यास लगी। वहां एक पनिहारिन पानी भर रही थी। कालिदास बोले : माते! पानी पिला दीजिए बड़ा पुण्य होगा। पनिहारिन बोली : बेटा, मैं तुम्हें जानती नहीं। अपना परिचय दो। मैं पानी पिला दूंगी।  कालिदास ने कहा : मैं मेहमान हूं, कृपया पानी पिला दें।... आगे पढ़े

18,500 फीट की ऊंचाई पर बसे हैं श्रीखंड महादेव, जानें कब से शुरू हो रही है यात्रा

Updated on 6 July, 2019, 12:56
नई दिल्लीः कहते हैं कि देवों के देव महादेव भगवान शिव के भक्तों के लिए पंच कैलाश की यात्रा काफी मायने रखती है. यही कारण है कि दुर्गम रास्तों को पार कर और अपनी जान जोखिम में डालकर भगवान शिव के श्रद्धालु पंच कैलाश यानी भगवान भोलेशंकर के पांच तीर्थ... आगे पढ़े

विनायक चतुर्थी है आज : श्री गणेश के इन 12 नामों से चमक उठेगा सौभाग्य

Updated on 6 July, 2019, 7:00
शनिवार, 6 जुलाई 2019 को विनायक चतुर्थी है। हिन्दू धर्म के 5 प्रमुख देवों में श्री गणेश जी का नाम शामिल है। पौराणिक शास्त्रों में गणेश जी के 12 प्रसिद्ध नाम बताए गए हैं जिनका सुमिरन करने से हर बाधा व संकट का अंत होता है। हर दिन इन नामों का... आगे पढ़े

शनिवार को हनुमानजी ऐसे होंगे प्रसन्न, पढ़ें 9 खास बातें

Updated on 6 July, 2019, 6:30
हनुमानजी की पूजा सबसे जल्दी मनोकामनाएं पूर्ण करने वाली मानी गई है। शनिवार के दिन हनुमानजी को प्रसन्न करने के लिए विशेष उपाय करें तो कुछ ही समय में किस्मत चमक सकती है। ये खास उपाय आपकी हर मनोकामना पूरी कर सकते हैं और सभी कष्टों का निवारण कर सकते... आगे पढ़े

22 जुलाई को आ रहा है श्रावण का पहला सोमवार : कैसे करें उपासना, कौन से चढ़ाएं फूल, पढ़ें 14 बातें

Updated on 6 July, 2019, 6:15
सावन (श्रावण) माह में शिवजी की आराधना करने से मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है, लेकिन कोई भी देव आराधना अथवा मंत्र, स्तोत्र और स्तुतियां का फल तभी प्राप्त होता है जब आराधना विधि-विधान और शास्त्र सम्मत तरीकों से की जाए। इस बार 2019 में श्रावण मास का पहला सोमवार... आगे पढ़े

 सफलता मिलेगी दिल लगाकर करें काम

Updated on 6 July, 2019, 6:00
यह वह दौर है जहां सफलता के गुण बताने के लिए बकायदा क्लासें लगाई जाती हैं। सफल बनने के गुर बताते गुरु अब बहुतायत में मिलने लगे हैं। ऐसे में एक काफी समय पहले की बात याद आती है। तब गुरू गोविंद साहब के कुछ शिष्य उनके पास आए और... आगे पढ़े

श्रावण में भगवान शिव के 15 प्रभावशाली मंत्र, देते हैं धन, सफलता, संतान, प्रमोशन, नौकरी, विवाह और प्रे

Updated on 5 July, 2019, 6:30
श्रावण मास 17 जुलाई 2019 से आंरभ हो रहा है। इस मास में भोलेनाथ शिव की पूजा आराधना की जाती है। यहां प्रस्तुत है श्रावण मास के 15 ऐसे मंत्र जिनका जप जीवन में हर तरह की शुभता, अनुकूलता और प्रगति लाता है। सुख, शांति, धन, समृद्धि, सफलता, प्रगति, संतान,... आगे पढ़े

पुराणों का काल एवं रचयिता

Updated on 5 July, 2019, 6:15
यद्यपि आजकल जो पुराण मिलते हैं उनमें से अधिकतर पीछे से बने हुए या प्रक्षिप्त विषयों से भरे हुए हैं तथापि पुराण बहुत प्राचीन काल से प्रचलित थे। बृहदारण्यक उपनिषद् और शतपथ ब्राह्मण में लिखा है कि गीली लकड़ी से जैसे धुआँ अलग अलग निकलता है वैसे ही महान भूत... आगे पढ़े