Friday, 22 November 2019, 8:10 AM

धर्म एवं ज्योतिष

संवेदनशील और सबल बनो 

Updated on 13 November, 2019, 6:00
सदाचार का तब तक पालन किए जाओ जब तक यह तुम्हारा स्वभाव न बन जाए। मित्रता, दया और ध्यान का अभ्यास जारी रखो। जब तक यह न समझ जाओ कि यह तुम्हारा स्वभाव है। जब कार्य स्वभावत: किया जाता है,तब तुम फल की लालसा नहीं रखते हो। सहजता से बस... आगे पढ़े

भैरव अष्टमी 2019 : काल भैरव जी के 108 नाम, बदल देंगे आपका भाग्य

Updated on 12 November, 2019, 22:17
काल भैरव को काशी का कोतवाल माना जाता है। भैरव जी के 108 नामों को प्रतिदिन, रविवार या शनिवार को पढ़ना चाहिए, साथ ही भैरव जी को सरसों के तेल का दीप व लड्डू अर्पण करना चाहिए। इनका वाहन कुत्ता माना जाता है, अत: कुत्ते को दूध आदि पिलाते रहना... आगे पढ़े

कार्तिक पूर्णिमा 2019: भरणी नक्षत्र में स्नान आज, लाखों श्रद्धालु लगा रहे डुबकी

Updated on 12 November, 2019, 10:20
कार्तिक शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा का स्नान आज है। गंगा में डुबकी लगाने के लिए देश के कईं जगहों से श्रद्धालु धर्मनगरी पहुंचे हैं। यह स्नान वर्ष का अंतिम स्नान पर्व है। इस बार कार्तिक पूर्णिमा का स्नान मुसल योग और भरणी नक्षत्र में हो रहा है। कार्तिक पूर्णिमा पर गंगा स्नान... आगे पढ़े

गुरु नानकदेव :सिख पंथ के संस्थापक 

Updated on 12 November, 2019, 6:30
उनके अनुयायी उन्हें नानक, नानक देव जी, बाबा नानक और नानकशाह नामों से संबोधित करते हैं। नानकदेव अपने व्यक्तित्व में दार्शनिक, योगी, गृहस्थ, धर्मसुधारक, समाजसुधारक, कवि, देशभक्त और विश्वबंधु - सभी के गुण समेटे हुए थे। नानक देव जी का जन्म कार्तिक पूर्णिमा,14अप्रैल 1469ईसवी राय भोई की तलवंडी, (वर्तमान ननकाना साहिब, पंजाब,पाकिस्तान)... आगे पढ़े

550वीं गुरू नानक जयंती पर विशेष- गुरू नानक की महिमा  

Updated on 12 November, 2019, 6:15
सिखों के प्रथम गुरू नानक देव से एक बार किसी ने पूछा कि गुरू के दर्शन करने से क्या लाभ होता है? गुरू नानक ने मुस्कराते हुए उत्तर दिया कि इसी रास्ते पर चले जाओ और रास्ते में तुम्हें सबसे पहले जो भी मिले, उससे अपने इस प्रश्न का जवाब... आगे पढ़े

मनोबल कम न हो 

Updated on 12 November, 2019, 6:00
जीवन की जितनी अनिवार्य आवश्यकताएं हैं, वे वास्तविक समस्याएं हैं। कुछ समस्याएं हमारी काल्पनिक भी हैं। काल्पनिक समस्याएं भी कम भयंकर नहीं होती। वास्तविक समस्याएं बहुत थोड़ी हैं, गिनी-चुनी। किन्तु काल्पनिक समस्याओं का कहीं अंत नहीं है। इतनी जटिल समस्याएं जो प्रतिदिन हमारे सामने उभरती हैं। किस प्रकार काल्पनिक समस्याएं... आगे पढ़े

कार्तिक चतुर्दशी 2019 : वैकुंठ की कामना है, इस जन्म में धन संपदा की इच्छा है तो करें ये 5 काम

Updated on 11 November, 2019, 6:45
कार्तिक माह की शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को वैकुंठ चतुर्दशी के नाम से जाना जाता है। इस दिन भगवान विष्णु की विधिवत रूप से पूजा-अर्चना की जाती है। इसके साथ ही भगवान कार्तिकेय, राधा-दामोदर, तुलसी-शालिग्राम का पूजन भी किया जाता है। आइए जानते हैं इस दिन क्या करें... कार्तिक माह के... आगे पढ़े

वैकुंठ चतुर्दशी 2019 मुहूर्त, सरल पूजन विधि, खिचड़ी, घी और आम के अचार का भोग करेगा हरि को प्रसन्न

Updated on 11 November, 2019, 6:30
वैकुंठ चतुर्दशी के दिन पूरे विधि विधान से पूजा करने से सभी को पापों से मुक्ति मिलती है और वैकुंठ की प्राप्ति होती है। वैकुंठ चतुर्दशी पूजा विधि इस दिन प्रातःकाल स्नान करके नया वस्त्र धारण करें और उपवास रखें। प्रातः काल सूर्योदय से पहला स्नान करें, व्रत का संकल्प लें। इस दिन भगवान... आगे पढ़े

जब भगवान विष्णु ने चढ़ा दी अपनी आंखें शिव जी को

Updated on 11 November, 2019, 6:15
प्राचीन मतानुसार एक बार भगवान विष्णु देवाधिदेव महादेव का पूजन करने के लिए काशी आए। वहां मणिकर्णिका घाट पर स्नान करके उन्होंने एक हज़ार स्वर्ण कमल पुष्पों से भगवान विश्वनाथ के पूजन का संकल्प किया। अभिषेक के बाद जब वे पूजन करने लगे तो शिवजी ने उनकी भक्ति की परीक्षा के... आगे पढ़े

पूर्वाग्रह न पालें 

Updated on 11 November, 2019, 6:00
पुत्र वयस्क हो चुका था। उसने एक दिन पिता से कहा, 'पिताजी! आज से मैं आपके साथ भोजन नहीं करूंगा।' यह कथन तनाव पैदा करने वाला था। पर पिता समझदार था। उसने तत्काल कहा, 'बेटा! कोई बात नहीं है। इतने दिनों तक तुम मेरे साथ भोजन करते रहे तो आज... आगे पढ़े

रावण ने कैलाश पर्वत को उठा लिया फिर धनुष क्यों नहीं उठा पाया और राम ने कैसे धनुष तोड़ दिया?

Updated on 10 November, 2019, 6:45
अक्सर लोगों के मन में यह सवाल आता है कि जब रावण कैलाश पर्वत उठा सकता है तो शिव का धनुष कैसे नहीं उठा पाया और भगवान राम ने कैसे उस धनुष को उठाकर तोड़ दिया? आओ इस सवाल का जवाब जानते हैं। ऐसा था धनुष : भगवान शिव का धनुष... आगे पढ़े

वैकुंठ चतुर्दशी 2019 : हरि और हर का मिलन होगा इस दिन, जानिए महत्व

Updated on 10 November, 2019, 6:30
पौराणिक मान्यता के अनुसार वैकुंठ चतुर्दशी पर भगवान भोलेनाथ सृष्टि का कार्यभार भगवान विष्णु को सौंपकर कैलाश की यात्रा पर निकल पड़ते हैं। प्राचीन नगरी उज्जयिनी यानी उज्जैन में इस पर्व को इसी मान्यता के अनुसार मनाया जाता है। इस अवसर पर भगवान भोलेनाथ महाकाल की सुंदर यात्रा गोपाल मंदिर पंहुचती... आगे पढ़े

 निष्ठावान बने रहें 

Updated on 10 November, 2019, 6:00
एक किसान शहर में आया। गहनों की दुकान पर गया। गहने खरीदे, सोने के गहने, चमकदार। दुकानदार ने मूल्य मांगा। किसान ने कहा, मेरे पास मूल्य नहीं है, रूपए नहीं हैं। घी का भरा हुआ घड़ा है। आप इसे ले लें और गहने मुझे दें। सौदा तय हो गया। दुकानदार... आगे पढ़े

कौन है काल भैरव, उनकी उपासना से क्या मिलता है फल, जानिए 10 विशेष बातें...

Updated on 9 November, 2019, 6:30
जो व्यक्ति भैरव जयंती को अथवा किसी भी मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को भैरव का व्रत रखता है, पूजन या उनकी उपासना करता है वह समस्त कष्टों से मुक्त हो जाता है। भगवान काल भैरव अपने भक्तों के कष्टों को दूर कर बल, बुद्धि, तेज, यश, धन तथा... आगे पढ़े

गुरुनानक जयंती 2019 : सिख धर्म के 5 प्रमुख तख्त, जानिए

Updated on 9 November, 2019, 6:15
सिख धर्म के 10 गुरु हुए हैं प्रथम गुरु गुरुनानक देवजी और अंतिम गुरु गुरु गोविंद सिंह जी थे। सिख धर्म ने देश और धर्म की रक्षार्थ अपने प्राणों की आहुति देकर इस देख की आक्रांताओं से रक्षा की है। इसी क्रम ने उन्होंने पांच तख्तों को स्थापित किया था।... आगे पढ़े

विचारों की तरंगें

Updated on 9 November, 2019, 6:00
राजा की सवारी निकल रही थी। सर्वत्र जय-जयकार हो रही थी। सवारी बाजार के मध्य से गुजर रही थी। राजा की दृष्टि एक व्यापारी पर पड़ी। वह चन्दन का व्यापार करता था। राजा ने व्यापारी को देखा। मन में घृणा और ग्लानि उभर आई। उसने मन ही मन सोचा, 'यह... आगे पढ़े

तुलसी विवाह में शामिल शालिग्राम की पूजा के लाभ आपको अचरज में डाल देंगे, जानिए 12 चमत्कार

Updated on 8 November, 2019, 6:45
देवउठनी एकादशी के दिन उनके प्रभु निद्रा से जागते हैं और परम सती भगवती स्वरूपा मां तुलसी से उनका विवाह होता है। कार्तिक शुक्ल एकादशी और द्वादशी को तुलसी विवाह होता है जिसमें श्री शालिग्राम और तुलसी का विवाह संपन्न होता है। यह शालिग्राम, सालिग्राम आखिर कौन है, आइए जानते... आगे पढ़े

सुख, समृद्धि के लिए हैं अलग-अलग मान्यताएं  

Updated on 8 November, 2019, 6:30
सभी अपने घर में सुख, समृद्धि और शांति चाहते हैं। इसके लिए हर कोई अनोखे तरह की चीजें अपने घर में रखता है, जिन्हें हम लकी चार्म कहते हैं। जिस प्रकार चीनी मान्यता में लाभ के लिए फेंगशुई आईटम रखे जाते हैं जिन चान को मनी टोड के नाम से... आगे पढ़े

देव उठनी ग्यारस और उसका महत्व  

Updated on 8 November, 2019, 6:15
कार्तिक मास शुक्ल पक्ष एकादशी हिंदू धर्म के लिए काफी खास मानी जाती है। इसे देवउठनी और देव प्रबोधिनी के नाम से जाना जाता है। इस बार शुक्रवार 8 नवंबर को यह एकादशी पड़ रही है। सनातन धर्म के अनुसार भगवान विष्णु कार्तिक मास के शुरू होने से 4 महीने... आगे पढ़े

अज्ञान का आवरण

Updated on 8 November, 2019, 6:00
गुरू के पास डंडा था। उस डंडे में विशेषता थी कि उसे जिधर घुमाओ, उधर उस व्यक्ति की सारी खामियां दिखने लग जाएं। गुरू ने शिष्य को डंडा दे दिया। कोई भी आता, शिष्य डंडा उधर कर देता। सब कुरूप-ही-कुरूप सामने दीखते। अब भीतर में कौन कुरूप नहीं है? हर... आगे पढ़े

भगवान श‍िव की पूजा से पूरी होती हैं मनोकामनाएं  

Updated on 7 November, 2019, 6:45
सोमवार का द‍िन भगवान श‍िव की पूजा के लि‍ए खास माना जाता है। कहते हैं क‍ि इस द‍िन श‍िव जी बहुत जल्‍द खुश होते हैं। इस द‍िन ऐसे करें पूजा व इन बातों का रखें ध्‍यान। सोमवार का द‍िन है खास हिंदू शास्‍त्रों में सोमवार का द‍िन मुख्‍य रूप से भगवान श‍िव... आगे पढ़े

इन कामों से मिलता है स्वर्ग  

Updated on 7 November, 2019, 6:30
आधुनिक जीवन में सफलता का अर्थ पैसों और सुख-सुविधा की चीजों से जुड़ा हुआ है। आप जितना भी धन कमा लेंगे दुनिया आपको उतना ही कामयाबी कहेगी, अंधाधुध पैसे कमाने की होड़ में कोई व्यक्ति ये नहीं सोचता कि उससे भौतिक दुनिया की सुख-सुविधा कमाने के कारण कितने पाप हो... आगे पढ़े

घड़ी भी तय करती है भविष्य 

Updated on 7 November, 2019, 6:30
जीवन में समय सबसे बड़ा बलवान माना जाता है। मनुष्य हमेशा समय के साथ चलता है, अगर वह नहीं चला तो पीछे रह जाएगा। समय अच्छा हो या बुरा वह हर किसी के जीवन में आता-जाता रहता है। जो समय एक बार चला जाए तो वह जीवन में कभी वापस... आगे पढ़े

सहन करना सीखें

Updated on 7 November, 2019, 6:00
व्यक्ति स्वयं ही बेचैनी का जीवन जीता है और अकारण ही जीवन में अनेक कष्टों को आमंत्रित कर लेता है। एक आदमी था। वह सदा प्रसन्न रहता था। एक दिन उसको उदास देखकर मित्र ने पूछा, मित्र! तुम सदा प्रसन्न रहते थे। तुम्हारी सारी अनुकूलताएं थीं। पर आज तुम बहुत... आगे पढ़े

बाथरूम और टॉयलेट एक साथ होने से होते हैं ये 5 नुकसान

Updated on 6 November, 2019, 6:45
आजकल घरों में बाथरूम और टॉयलेट एक साथ होना आम बात है। खासकर फ्‍लैट में यह देखने को मिलता है। इसे अटैच लेट-बॉथ कहते हैं। कई फ्लैटों में यह ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए बहुत ही सुंदर बनाए जाते हैं, लेकिन वास्तु शास्त्र के अनुसार इससे 5 तरह के... आगे पढ़े

देवप्रबोधिनी एकादशी 2019 : भगवान विष्णु देंगे शुभ कार्यों की अनुमति, तुलसी पौधे का करें दान

Updated on 6 November, 2019, 6:30
हरि प्रबोधिनी एकादशी को देशी भाषा में देवउठनी एकादशी कहा जाता है। इस तिथि को तुलसी जी पृथ्वी लोक से वैकुंठ लोक में चली जाती हैं और देवताओं की जागृति होकर उनकी समस्त शक्ति पृथ्वी लोक में आकर लोक कल्याणकारी बन जाती हैं। तुलसी को माता कहा जाता है क्योंकि तुलसी... आगे पढ़े

देवउठनी एकादशी: चार माह की निद्रा से जागते हैं भगवान विष्णु

Updated on 6 November, 2019, 6:15
हिंदू धर्म में तुलसी पूजा को काफी महत्वपूर्ण बताया गया है। आमतौर पर हर घर में तुलसी की पूजा की जाती है। माना जाता है कि जिस घर में तुलसी की पूजा होती है, वहां तुलसी का वास होता है और परिवार की सुख समृद्धि बनी रहती है। कार्तिक माह... आगे पढ़े

प्रार्थना की शक्ति का महत्व... 

Updated on 6 November, 2019, 6:00
मनुष्य का जीवन उसकी शारीरिक एवं प्राणिक सत्ता में नहीं, अपितु उसकी मानसिक एवं आध्यात्मिक सत्ता में भी आकांक्षाओं तथा आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए और कामनाओं का है। जब उसे ज्ञान होता है कि एक महत्तर शक्ति संसार को संचालित कर रही है, तब वह अपनी आवश्यकताओं की पूर्ति... आगे पढ़े

संतान प्राप्ति और उसकी रक्षा के लिए 5 नवंबर को मनाया जाएगा आंवला नवमी पर्व

Updated on 5 November, 2019, 6:45
 मंगलवार, 5 नवंबर को कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की नवमी है। इस तिथि को आंवला नवमी कहा जाता है। इसे अक्षय नवमी भी कहते हैं। इस दिन आंवले के वृक्ष की पूजा की जाती है। पुरानी मान्यता है जो लोग इस नवमी पर आंवले की पूजा करते हैं, उन्हें... आगे पढ़े

आंवला नवमी की परंपराओं में छुपा है विज्ञान, इस पर्व से जुड़ी खास बातें

Updated on 5 November, 2019, 6:30
कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को आंवला (अक्षय) नवमी कहते हैं। इस दिन आंवले के पेड़ की पूजा की जाती है। इस बार ये पर्व 5 नवंबर, मंगलवार को है। यह प्रकृति के प्रति आभार व्यक्त करने का भारतीय संस्कृति का पर्व है। मान्यता है कि इस... आगे पढ़े